मानव जीवन में योग का महत्त्व एवं उपयोगिता

Authors

  • ललित मोहन पीएचडी स्काॅलर योगए सैम ग्लोबल यूनिवर्सिटीए भोपालए मध्य प्रदेश

Keywords:

योग का महत्त्व एवं उपयोगिता

Abstract

िजस ????कार आज नए-नए आिव????ार ????ए ह????। आज मानव को अनेक नई-नई सुख-सुिवधाएं आसानी से उपल???? ????ई है। उसी
????कार सुख-सुिवधाओं के चलते शारी????रक ????म का आभाव ????आ है। िजस कारण मानव शरीर को अनेक रोगों (जैसे हाई बी.पी.,
शुगर, अ????थमा, दमा, मोटापा, माइ????ेन, िसर दद????, सवा????इकल ????ॉ????????लाइिटस, बैक पेन आिद) ने घेर िलया है। उन सभी का
िनजात अगर संभव है तो वह है योग म????, योग के वल शारी????रक ि????या ही नही ंअिपतु यह सवा????गीण िवकास की ि????या है जो न
के वल शरीर पर, अिपतु मन-बु???????? और अंतरा????ा को शु???? करता है। मानव जीवन म???? योग की उपयोिगता इस बात से समझी
जा सकती है िक योग एक सुखी जीवन जीने की कला है। वही शरीर के संबंध म????, यह िसफ???? शरीर को ऊजा????????????त नही ंकरता
अिपतु मानव के अंदर आ????िव????ास का संचार भी करता है। िनयिमत योग करने से सदाचार को अकू त बल िमलता है।

DOI: 10.5281/zenodo.10445106

Note: Please read PDF to solve the readable problem.

Author Biography

ललित मोहन, पीएचडी स्काॅलर योगए सैम ग्लोबल यूनिवर्सिटीए भोपालए मध्य प्रदेश

पीएचडी स्काॅलर योगए सैम ग्लोबल यूनिवर्सिटीए भोपालए मध्य प्रदेश

References

रोग और योग- डॉ????र ????ामी कमा????नंद सर????ती, ???????????? माग????दश????न ????ामी स????ानंद सर????ती, योग प????????के शन ट???? ????, मुंगेर

िबहार।

योग का इितहास, मह???? और लाभ- शिशकांत सदैव, ????भाकर ????काशन, ASIN : B09BP1CGTM।

संपूण???? योग िव????ा- राजीव जैन ि????लोक, मंजुल प????????िशंग हाउस, अंसारी रोड, द????रयागंज, नई िद????ी।

'????ाकृ ितक ????ा???? एवं योग' संपूण???? ????ा???? के िलए- डॉ ि????ज भूषण गोयल, ????िल????ग प????????शस???? ????ाइवेट िलिमटेड, नई िद????ी

योग ????????थ जीवन जीने का तरीका-उ???? ????ाथिमक ????र, रा???????? ीय शैि????क अनुसंधान और प????रषद, ISBN 978-93-5007-

-5।

Downloads

Published

15-12-2023

How to Cite

ललित मोहन. (2023). मानव जीवन में योग का महत्त्व एवं उपयोगिता. RECENT RESEARCHES IN SOCIAL SCIENCES & HUMANITIES, 10(4), 88–90. Retrieved from https://ijorr.in/ojs/index.php/rrssh/article/view/117